gratis homepage uhr website clocks
कोसी प्रमंडल (बिहार) से प्रकाशित इस प्रथम दैनिक ई. अखबार में आपका स्वागत है,भारत एवं विश्व भर में फैले यहाँ के तमाम लोगों के लिए यहाँ की सूचना का एक सशक्त माध्यम हम बनें, यही प्रयास है हमारा, आपका सहयोग आपेक्षित है... - सम्पादक

Scrolling Text

Related Posts with Thumbnails

रविवार

कुर्सेला घाट पर अर्से बाद दिखा मगरमच्छों का कुनबा


बिहार के कटिहार जिले की सीमा से लगे पूर्णियां जिले में कोसी और गंगा के संगम वाले कुर्सेला घाट पर विशाल मगरमच्छों का एक कुनबा इन दिनों लोगों के लिए कौतूहल और भय का कारण बना हुआ है।लगभग छह दशक पूर्व तक अविभाजित बिहार के पूर्णियां जिला के कोसी नदी का कछार वाला इलाका जंगल, हिंसक वन्य प्राणियों और जल जीवों के लिए मशहूर था लेकिन बढ़ती आबादी, पर्यावरण में आए बदलाव, वृक्षों की अंधाधुंध कटाई और कोसी परियोजना के कार्यान्वयन के कारण इस इलाके में वन्य प्राणी तथा जल जीव पूरी तरह लुप्त या दुर्लभ हो चुके हैं, लेकिन लम्बे अर्से बाद एक बार फिर कुर्सेला घाट पर लगभग तीन मीटर लम्बे और डेढ़ मीटर चौडे़ तीन बड़े मगरमच्छ इन दिनों धूप सेंकते नजर आ रहे हैं। उनके साथ में शिशु मगरमच्छ भी पानी और रेत पर अठखेलियां करते रहते हैं।कुर्सेला घाट पर नित्य स्नान करने वाले लोग इन मगरमच्छों से भयभीत है। आगामी माघी पूर्णिमा के दिन यहां लगने वाले मेले के अवसर पर बड़ी संख्या में संगम में डूबकी लगाने वालों के लिए यह खतरे का सबब बना हुआ है। इसके साथ ही इन मगरमच्छों को भी लोगों से खतरा है।
गौरतलब है कि कटिहार जिले में कुर्सेला से भौआ तक कोसी नदी के कछार के काश पटेर के जंगलों में एक समय गेंडा, बाघ, चीता, मगरमच्छ जैसे वन्य प्राणी बहुतायत में पाए जाते थे। भारत में अब तक का सबसे बड़ा रॉयल बंगाल टाइगर कटिहार जिला के गेड़ाबाड़ी के जंगलों में मिला था जिसका खाल आज भी कोलकाता संग्रहालय में रखी है।