gratis homepage uhr website clocks
कोसी प्रमंडल (बिहार) से प्रकाशित इस प्रथम दैनिक ई. अखबार में आपका स्वागत है,भारत एवं विश्व भर में फैले यहाँ के तमाम लोगों के लिए यहाँ की सूचना का एक सशक्त माध्यम हम बनें, यही प्रयास है हमारा, आपका सहयोग आपेक्षित है... - सम्पादक

Scrolling Text

Related Posts with Thumbnails

रविवार

प्रतिभा का सम्मान


तिहास के पन्नों में राजशाही और जमींदारों की बर्बरता और क्रूरता के किस्से भरे परे हैं। लेकिन कई ऐसे अपवाद इतिहास से निकलकर सामने आते हैं तो मन कौतूहलता से भर जाता है। मधेपुरा में मिले इतिहास के एक सुनहरे साक्ष्य को बांटने से नहीं रोक पा रहा हूँ । इस महत्वपूर्ण साक्ष्य (तस्वीर में दिख रहे) को सहेजने वाले प्रशांत कुमार (अधिवक्ता, व्यवहार न्यायलय, मधेपुरा) एवं इस सदर्भ में विस्तृत सूचना उपलब्ध कराने वाले डा. भूपेन्द्र ना यादव ‘मधेपुरी’ का आभार व्यक्त करना चाहूंगा ! प्राप्त जानकारी अनुसार एकदेश्वर सिंह दरभंगा महराज के शंकरपुर स्टेट के जमींदार थे उनकी लोकप्रियता जनहित के कार्यों एव शिक्षा के प्रति उनकी प्रतिवद्धता से झलकती है। उनदिनों मधेपुरा की एकमात्र शिक्षण संस्थान ‘दी सीरीज इन्स्टीट्यूट’ (स्थापित- 1896 ई., मधेपुरा) से इन्ट्रेंस परीक्षा में प्रथम आने वाले छात्र को वे प्रतिवर्ष स्वर्ण पदक प्रदान किया करते थे। शिक्षा के प्रति उनके अनुराग को यह पदक दर्शाता है। यह पदक बाबू रासबिहारी लाल मंडल (मुरहो स्टेट) के दामाद शालीग्रामी निवासी श्री रघुनंदन प्रसाद के 1905 – 06 वर्ष की इंट्रेंस परीक्षा में प्रथम आने के उपलक्ष्य में जमींदार एकदेश्वर सिंह के द्वारा प्रदान किया गया था।