gratis homepage uhr website clocks
कोसी प्रमंडल (बिहार) से प्रकाशित इस प्रथम दैनिक ई. अखबार में आपका स्वागत है,भारत एवं विश्व भर में फैले यहाँ के तमाम लोगों के लिए यहाँ की सूचना का एक सशक्त माध्यम हम बनें, यही प्रयास है हमारा, आपका सहयोग आपेक्षित है... - सम्पादक

Scrolling Text

Related Posts with Thumbnails

गुरुवार

कविताओं में दिखे थे MLA के हत्यारे के इरादे! संदर्भ: रूपम पाठक की गजल

 पूर्णिया. भाजपा से सदर विधायक राजकिशोर केशरी की हत्या करने वाली रूपम पाठक कवियत्री भी हैं। रूपम पटना विश्विद्यालय से "ग़ज़ल" विषय पर पीएचडी भी कर रही हैं। रूपम ने कई मौकों पर आयोज़नों में कविता पाठ किया है। कई आयोज़नों का संचालन भी रूपम ने किया है। रूपम कवितायेँ भी लिखती हैं। पिछले दिनों एक साहित्यिक पत्रिका में रूपम की दो कवितायेँ भी छपी थीं। एक का शीर्षक था "जब तेरा साथ नहीं"। इस कविता की कुछ पंक्तियां इस तरह हैं,
"तेज बारिश में भींगा बदन है मेरा, ताप सूरज का मिलता नहीं, क्या करें ? जब लगी चोट गहरी तो दिल ने कहा वो प्यार का फूल खिलता नहीं क्या करें ? बंद दरवाजे सारे खुले मन के अबरंग फागुन का घुलता नहीं क्या करें?...."